हॉस्टल में मैं अपनीं सहेली के बॉयफ्रेंड

Discussion in 'Hindi Sex Stories - हिंदी सेक्स कहानियाँ' started by SexStories, Jan 9, 2017.

  1. SexStories

    SexStories Active Member

    MyIndianSexStories

    हेलो दोंस्तों, मैं अंजू यादव आपको अपनी चुदाई की कहानी सुना रही हूँ। सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि मैं काफी।सेक्सी हूँ और सिर्फ एक ही चीज में मेरा अटूट विस्वास है। और वो है चुदाई। मेरे बूब्स भी 36 साइज़ के है। क्योंकि मैंने 8 वी से ही कई लड़कों से लगातार चुदवा रही हूँ। या यूँ कहूं कि मुझको जो भी लड़का मिला मैंने उसको जाने नही दिया और चुदवा कर ही मैंने उसे जाने दिया। मेरी इसी चुदासी प्रवृति के कारण कई लड़कों से जो मेरे बॉयफ्रेंड थे। मुझे कई बार मारा पीटा भी। पर दोंस्तों, मैं चुदाई में इतना मजा मिलता है कि मैंने खुद को रोक ही नही पाती हूँ। जैसे ही मुझको कोई मर्द मिलता है मैं उसके लण्ड के बारे में सोचने लग जाती हूँ की कितना बड़ा होगा और वो लड़का बिना झड़े मुझे कितने देर पेल पाएगा। मेरी इसी बुरी आदत के कारण मेरे सारे बॉयफ्रेंड मुझको छोड़ गए। किसी ने मुझे रंडी कहा, तो किसी ने आवारा कहा। किसी ने मुझे चुदासी कहा तो किसी ने मुझे लण्ड की दासी कहा। पर दोंस्तों, मैंने ज़माने की जरा भी फिक्र नही की। माँ चुदाऐ जमाना। मुझे तो बस किसी लड़के से चुदवाना है। मैं पटना की रहने वाली हूँ। मैं बंसल इन्स्टिट्यूट ऑफ़ इंजिनिअरींग एंड टेक्नोलॉजी से बी टेक का कोर्स कर रही हूँ। यह उन दिनों की बात है जब मैंने नया नया बी टेक् में एडमिशन लिया था। चूकिं मेरा घर पटना के देहात में था इसलिए मेरे घर वालो ने कहा कि मुझे हॉस्टल में रहना चाहिए। वो ही वो जगह थी जहाँ मुझे चुदाई का असली चस्का लगा। दोंस्तों आप तो जानते ही होंगे की इंजीनियरिंग की पढाई कितनी कठिन होती है। हॉस्टल में हम लड़कियाँ दिन रात पढ़ती थी। रात में जब हमारे सिर में दर्द होने लगता था तो सब लड़कियाँ मिलकर एक कमरे में आ जाती थी। पूरा ग्रुप इकट्ठा हो जाता था। और हम सब सखिया चुदाई की खूब बातें करती थी। हर लड़की अपने बॉयफ्रेंड के बारे में बताती थी। वो कैसे उनकी चूत लेता है, कितनी देर लेता है, सब बताती थी। तो इस तरह दोंस्तों, घण्टे दो घण्टे बाद हम सखिया अपने अपने घर चली जाती थी। इस तरह चुदाई के टॉपिक पर बात करके हम सबका मुड फ्रेश हो जाता था और पढाई में खूब मन लगता था। हर वीकेंड में शनिवार और रविवार के दिन किसी ना किसी लड़की का बॉयफ्रेंड चुपके से हॉस्टल में आ जाता था और वो लड़की खूब चुदाई करती थी। कई बार तो उसकी सहेलिया भी उस बॉयफ्रेंड से चुदवा लेती थी। जब ऐसा कई बार हुआ तो मेरा भी किसी लड़के का लण्ड लेने का मन हुआ। वैसे भी एक साल से मुठ मार रही थी। एक दिन जब मेरी रूम मेट का बॉयफ्रेंड हॉस्टल सबसे छिप कर आया तो पायल बोली की मै 2 घण्टों के लिए सोनम के कमरे में चली जाऊ। क्योंकि उसको अपने बॉयफ्रेंड से चुदवाना था। मैं सोनम के कमरे में चली गयी। मेरे हाथ में इलेक्ट्रिकल की मोटी किताब थी। पर दोंस्तों अपनी माँ की कसम खा के कह रही हूँ की मेरा मन बस यही सोच रहा था कि सोनम कैसे कैसे चुदवा रही होगी। इसी उधेड़ बुन में मैं अपनीं बुर में ऊँगली करने लगे। धीरे धीरे पूरा हाथ ही मैनें अपने भोंसड़े में पेल दिया और मुठ मारने लगी। दोंस्तों, 2 घण्टे बाद पायल का बॉयफ्रेंड उसको पेलकर रात के अंधेरे में हॉस्टल की दिवार फांद गया। पायल मुझको बुलाने आयी। यार पायल!!! ये तो बड़ी जातती है। तू अकेले अकेले लण्ड खा लेती है। एक बार नही सोचती है कि अंजू का भी चूदने का मन करता होगा! मैंने उससे नाराज होते हुए कहा।
    ठीक है बाबा!!! अगली बार तुझको भीं चुदवा दूंगी! अब तो हँस दे! पायल बोली।
    http://myindiansexstories.com/index.php?forums/telugu-sex-stories-తెలుగు-సెక్స్-కథలు.4/मैं हँस दी। मैनें उसे गले लगा लिया। अगली शनिवार को उसका बॉयफ्रेंड फिर आया तो हम दोनों सखियाँ नँगी होकर लेट गयी। उसके बॉयफ्रेंड सिद्धार्थ ने बारी बारी से हम दोनों को पेला। 40 50 बार पायल की बुर में लण्ड अंदर बाहर करता फिर मेरे पास आ जाता। फिर मुझे भी 50 60 बार बुर में लण्ड डालकर अंदर बाहर करता फिर पायल के पास चला जाता। जब पायल चूदने लगती तो मैंने उसकी बुर और गाण्ड चाटने लगती। और जब मैं चुदती तो वो मेरी बुर के पास जहाँ लण्ड अंदर बाहर होता है वहां चाटती और फिर मेरी गाण्ड भी वो चाटती। फिर सिद्धार्थ सीधा अपने दोनों हाथ करके खड़ा हो जाता। हम दोनों सहेलियाँ बारी बारी से उसका लण्ड चूसती। अगर पायल जादा देर तक उसका लण्ड चूसती तो मुझे जलन हो जाती। मैं लण्ड खीच कर खुद चूसने लग जाती। और जब मैं काफी देर तक उसका लण्ड पीती रहती तो पायल मुझसे जलने लगे जाती और सिद्धार्थ का लण्ड खीच कर पीने लगती। इस तरह हम दोनों सहेलियाँ हॉस्टल में खूब मस्ती करती थी। फिर सिद्दार्थ जब जाने लगता तो हम दोनों के बारी बारी से मुँह चोदता। कुछ हफ्तों बाद क्रिसमस की 4 दिनों की छुट्टियाँ हो गयी। और सारी लड़कियाँ अपने अपने घर चली गयी।
    यार अंजू! ये 4 दिन की छुट्टी पड़ रही है। कई दूसरी लड़की यहाँ होगी नही। अगर तू कहे तो सिद्दार्थ को बुलाऊँ। दोनों ऐश करेंगे! पायल ने कहा।
    डन बेबी!! मैंने कहा।
    दोंस्तों अब हमारे हॉस्टल में कोई नही था। हम दोनों सखियाँ खुलकर पेलाई कर सकती थी। क्रिसमस के दिन पायल का बॉयफ्रेंड वार्डन की नजरों से छिपते हुए हॉस्टल में आ गया। फिर महाराज जी यानि हमारी मेस वाले भैया जी हम दोनों सखियों को बुलाने आये। नियम के मुताबिक कोई भी लड़की किसी लड़के को अपने कमरे में नही ला सकती थी। पर नियम आखिर कौन मानता था। महाराज जी!! हमारा खाना यही ले आइये। और आज हम 6 रोटी और चावल खाएंगे! हम् दोनों ने कहा। भैया जी चौक गए की रोज तो हम 2 या 3 रोटी ही खाती है। पर आज कैसे हम दोनों 6 6 रोटियाँ खा रही है। वो जादा कुछ नही बोले। हमारा खाना ले आये। सिद्धार्थ को हमसे अपने कमरे के बाथरूम में छुपा दिया था। भैया जी चले गए। हम तीनों ने मस्ती से खाना खाया। रात 10 बजे वार्डन और बाकि सेक्युरिटी गार्ड सब सो गए। और हम तीनो की मस्त चुदाई शुरू हो गयी। पहले मैं चुदवाऊंगी! पायल ने कहा।
    नही, पहले मैं चुदवाऊंगी! मैंने कहा। हम दोनों सखियों में इस बात को लेकर झगड़ा हो गया।
    तुम दोनों slut आपस में झगडा मत करो! टॉस कर लो ! सिद्धार्थ ने कहा।
    मैंने टॉस किया तो पायल जीत गयी। वो लेट गयी। सिद्धार्थ ने अपना 10 इंच लम्बा लण्ड उसके भोंसड़े में डाल दिया और खचाखच उसको पेलने लगा। मैं पायल के मुँह के ऊपर नँगी बैठ गयी। वो सिद्धार्थ ने पेलवाती रही और मेरी बुर पीती रही। आह दोंस्तों, बड़ा मजा मिला मुझको। सिद्धार्थ ने हम दोनों को slut यानि रंडी कहा था। हमे ये शब्द बहुत अच्छा लगा। आज की रात के लिए हम दोनों सिद्धार्थ की रण्डियाँ बन गयी थी। दोंस्तों, उस दिन तो हम सहेलिया हँस कर चुदवा रही थी। पर आज सब सीरियस था। आज तो बड़ी गाण्डफाड़ चुदाई पायल की चल रहीं थी। सिद्धार्थ काफी हट्टा कट्टा था, सट सट करके बड़ी जोर जोर से धक्के मार रहा था। मैंने अपनी बुर पिलाते देखा की पायल की बुर का भोसड़ा बन गया है। सिद्धार्थ के लंबे और शक्तिशाली लण्ड ने पायल की बुर को फाड़ के रख दिया था। चूत का चबूतरा बन गया था। वो इतने जोर जोर के धक्के मार रहा था कि पायल आहु आ हहहह हा चिल्ला रही थी। पर इस दर्द में भी मजा मिल रहा था। मैं अपनीं गाण्ड पायल के मुँह के ऊपर लटका के बैठी थी। सिद्धार्थ जितना जोर जोर से धक्के मार रहा था पायल को उतना जादा मजा मिल रहा था। वो मेरी बुर और जोर जोर से चाट रही थी। जबकि मैं पायल की चूचियों को सहला रही थी। घण्टे भर पायल की बुर का कमरा बन गया। अब चूदने की बारी मेरी थी। अब मैं बिस्तर पर दोनों टाँग फैलाकर लेट गयी। पायल मेरे मुँह पर गाण्ड लटकाके बैठ गयी। उसका बॉयफ्रेंड अब मुझको लेने लगा। दोंस्तों जैसा मैंने आपको बताया आज वो दूसरे ही मूड में था। बिलकुल नही हँस रहा था। उसका ध्यान सिर्फ और सिर्फ चुदाई में थी। उसके धक्कों से पूरा बेड हिल रहा था। उसने मेरे दोनों पैर हवा में ऊपर उठा दिए थे और मुझे गच गच पेले जा रहा था। दोंस्तों, जिस तरह लोग मिर्ची खाते जाते है। वो कड़वी होती है पर फिर भी खाते जाते है और सी सी करते जाते है उसी तरह मैं पायल के फ्रेंड के जोर दार धक्के ले रही थी, मुझे दर्द भीं हो रहा था। पर एक बार भी मैनें उसको रुकने को नही कहा। मुझे बहुत मजा मिल रहा था।
    फक मी!! फक मी सिद्धार्थ सो हार्ड!! यू आर सो फकिंग गुड़!! मैंने कहा और सी सी करने लगी। अब तो दोंस्तों, उसका हौसला बढ़ गया। वो और जोर जोर के धक्के मारने लगा। वहीं मैं पायल की बुर लगातार चाटे जा रही थी। वो मेरी निपल्स मसल रहीं थी। आधे घण्टे बाद सिद्धार्थ का माल झड़ने वाला था। उसका बदन ऐंठ गया। वो कुत्ते की बहुत जल्दी जल्दी मुझको ठोकने लगा। मैं जान गयी की अब वो झड़ने वाला है। फिर वो इतने ताबड़तोड़ धक्के मारने लगा की लगा की कहीं उसका मेरी बुर फाड़ के मेरे पेट में ना घुस जाए। अअअअ आई आई मैंने खूब जोर जोर से दर्द के कारण चिल्लाने लगी। पायल ने मेरे मुँह पर अपनी बुर टिका दी। मेरा मुँह दब गया। अब मैं चिल्ला नही पा रही थी। अब मेरी आवाज घुट गयी थी। ये देख सिद्धार्थ को बड़ा मजा आया। वो और जोर जोर से मुझे चोदने लगा। मैं कुछ मिनटों में असंख्य बार चुद गयी थी। फिर सिद्धार्थ ने अपना 10 इंची लण्ड मेरे भोंसड़े से निकाल लिया। और जल्दी से मेरे मुँह के पास आ गया। उसने अपना सारा माल मेरे मुँह पर छोड़ दिया। मैंने सारा माल पी लिया। सिद्धार्थ अब मेरी चूत में खूब जल्दी जल्दी ऊँगली करने लगा। उसकी ताबड़तोड़ चुदाई से मुझको लग रहा था कि मेरी बुर 10 गुना चौड़ी हो गयी है, इतना पेला था सिद्धार्थ ने मुझको। उसने अपनी सीधे हाथ की 4 उंगलियाँ मेरे भसोड़े में पेल दी थी। और बड़ी जल्दी जल्दी मथ रहा था। मुझको अपनी मरी हुई नानी याद आ रही थी। मैंने अपनी बुर की ओर देखा। बुर के दोनों होंठ बिलकुल खुल गए थे और अगल बगल झूल रहे थे। इसी से दोंस्तों आप लोग जान सकते है कि मैं कितना चुद गयी थी उस दिन। अब सिद्धार्थ ने मुझको छोड़ दिया। अब दोबारा पायल की बारी आ गयी। सिद्धार्थ ने पायल को कुतिया बना दिया। पायल के मम्मे और सीना बिस्तर छू रहा था जबकी उसका पिछवाड़ा ऊपर उठा हुआ था। सिद्धार्थ ने उसको बड़ी जुगाड़ से कुतिया बनाया था। सिर्फ पायल के नर्म नर्म चुत्तड़ पीछे से ऊपर उठे हुए थे। सिद्धार्थ ने पायल की गाण्ड को कुछ देर तक चाटा और उसमें ऊँगली की। फिर वो उसकी खुश्बु सूंघने लगा। फिर पायल की गाण्ड चोदने लगा। मैं पागल के आगे अपना पिछवाड़ा करके बैठ गयी। पायल मेरी बुर पी रही थी और सिद्धार्थ उसकी गाण्ड ले रहा था। दोंस्तों वाकई कई मायनों में ये एक यादगार और शानदार चुदाई थी। सिद्धार्थ के मोटे ताजे लण्ड से पायल की गाण्ड ये मोटी हो गयी थी। खूब चौड़ी हो गयी थी। आ ओमा ओ माँ माँ पायल चुदास के मजे ले रही थी और दाँत और मुठी भींचकर चिल्ला रही थी। जी तो कर रहा था कि उसकी एक ऐसी ही न्यूड पेंटिंग बना लूँ। फिर मैंने अपने स्मार्टफोन से उसकी कई तस्वीरें खिंच ली। जब सिद्धार्थ को पायल की गाण्ड मारते मारते काफी देर हो गयी तो मैंने चिल्लाने लगी।
    अब मेरी बारी!! अब चूदने की मेरी बारी!! मैंने चिल्लाई।
    सिध्दार्थ ने लण्ड पायल की गाण्ड से निकाल लिया। खूब मोटा दमदार लण्ड था दोंस्तों। लप ने लण्ड निकला और ऊपर उठ गया। बड़ा विचित्र लण्ड था, खट से ऊपर उठ जाता था। जबकि ज्यादातर मर्दों का लण्ड सीधा रहता है। पर सिद्धार्थ का तो ऊपर उठ जाता था। अब उसने मुझको बिलकुल उसी स्टाइल में कुतिया बना दिया। मैं बिस्तर पर लेटी थी, बस मेरा पिछवाड़ा ही ऊपर उठा था। मेरी गाण्ड भी उसने चाटी, फिर ऊँगली की। फिर चोदने लगा।V

    2016 Best Telugu Sex Stories
     
Loading...