जीजा साली की मजेदार कहानी -7- Jija Sali Sex Stories

Discussion in 'Hindi Sex Stories - हिंदी सेक्स कहानियाँ' started by SexStories, Apr 27, 2016.

  1. SexStories

    SexStories Active Member

    MyIndianSexStories

    जीजा साली की मजेदार कहानी -7- Jija Sali Sex Stories

    This story is part 7 of 6 in the series

    जीजा साली की मजेदार कहानी -7- Jija Sali Sex Stories
    फिर मैं थोड़ा रुक कर बोला-"चलो कोई बात नही, मैं देखूँगा तो तुम्हे शर्म आएगी ना, चलो मैं अपनी नज़रें हटा देता हूँ. लेकिन बस एक बार तो देखने दो" कहते हुए मैने उस-ए फिर से अपनी तरफ घुमाया.

    मीनू ने अब तक अपने हाथो से बूब्स को धक रखा तहा. मैं बूब्स के ऊपर रखे उसके हाथो पर किस करने लगा और छ्होंटे चूमते उसकी बाँहों पर किस करने लगा. वो हल्की सी काश-मसाई और हाथो को बूब्स पर से हटा कर मेरे चेहरे पर सहलाने लगी. मुझे इसी बात का इंतेज़ार तहा. अब मीनू के हाथ मेरे चेहरे और गर्दन पर तहे और मेरे हाथ उसके नंगे बूब्स पर पहुच चुके तहे. मैं हौले हौले उन बूब्स को मसलने लगा.

    जैसे ही मैने बूब्स की निप्पल को हल्का सा मसला की मीनू एक बार फिर चोंक उठी और "उईईईईईईई माँ" कह कर अपने बूब्स की तरफ देखने लगी. इस बीच मैने कोई मौका ना चूकते हुए उसके लेफ्ट साइड वाले बूब को किस करना चालू कर दिया तहा और राइट साइड वाले बूब को साथ ही साथ हल्का हल्का मसलता जा रहा तहा. मैं अब उस के बूब की निप्पल को चूसने लगा तहा ऑरा भी मीनू-"आआआअहह आआआहह" की मोनिंग आहें भरने लगी तभी.

    उस के निप्पल कड़क हो कर स्ट्रेट हो गये तहे. मीनू के बूब्स और निपल्स के साथ ऐसा शायद पहली बार हुआ तहा और जैसे ही उस ने देखा तो बोली-"जीजू मेरे बूब्स को ये क्या हुआ?"

    मैं बोला-"ये तो हमारे प्यार का असर है. आगे आगे देखो अभी तो बहुत कुछ पहली बार होगा मेरी जान"

    कहते हुए मैने चूमते चूमते मेरे मूह को नीचे की तरफ लाना शुरू कर दिया. चूमते-चूमते उसकी सलवार तक पहुच गया. और.

    और..
    कुच्छ कुच्छ खुली हुई उसकी ट्रॅन्स्परेंट सलवार के ऊपर से दिखती पैंटी पर एक किस करने लगा. उसकी पैंटी में से एक अलग ही महक आ रही थी. चूमते चूमते मैं अपने दोनो हाथ मीनू के पिछवाड़े ले गया और सलवार के अनादर हाथ डालकर पैंटी के ऊपर से ही उस के गान्ड सहलाने लगा. सहलाते सहलाते हाथ को कुछ इस तरह मूव कराने लगा की अब उंगलिया उसकी गान्ड पर तभी और अंगूठा उसकी छूत के किनारो पर. धीरे धीरे उसकी सलवार को नीचे सरकाने लगा. मीनू की आआहएं लगातार जारी तभी.

    अभी तक हम घुतनो के बाल ही बैठे तहे और सलवार भी घुतनो तक जाकर रुक गयी. मुझे वो सलवार पूरी उतारनी तभी. मैं एक बार फिर मीनू को किस करने लगा और किस करते करते उस-ए घुतनो के बाल से हटा कर अब उसकी पीठ दीवार सहारे लगा दी. अब चूमते चूमते उसकी सलवार तक आया और उसकी जाँघो को छ्होंने लगा. नरम नरम जांघे और उन पर हल्के हल्के रोए जैसे उस-ए और सेक्सी बना रहे तहे. मैं चूमते छ्होंटे उसके घुतने तक आया और हौले हौले चूमते हुए उसकी सलवार पूरी तरह उतार दी.

    अब मीनू के जिस्म पर एक छोटी सी पैंटी के अलावा कुच्छ भी बाकी ना तहा. मेरा कहना भी ग़लत ना तहा. ठंड से गुलाबी हुए उसके जिस्म पर गुलाबी ब्रा के साथ साथ गुलाबी पैंटी बहुत फॅब रही तभी. लग रहा तहा की मीनू ने मुझे सिड्यूस करने के लिए ही गुलाबी ब्रा, गुलाबी पैंटी पहने हैं और खुद के जिस्म को भी हल्के गुलाबी रंग में टोने करवा लिया है.

    मैं उसकी पैंटी उतारने लगा तो उस ने मेरे हाथ रोक दिए, बोली-"जीईजू अब प्लज़्ज़्ज़ पैंटी को मत उतरो, मैं पूरी नंगी हो जाउगी, मेरे ब्रा आप पहले ही उतार चुके हो, आज से पहले मैं किसी भी माले के सामने नंगी नही हुई हूँ"

    मेरी नज़र एक बार फिर उसकी पैंटी पर बने 'तड्डी बाहर' पर गयी. मैं बोला-"अचहचहा मुझसे झूठ बोल रही हो. तुम्हारी चुत को आज तक किसी भी 'माले' ने नही देखा, ह्म्‍म्म्म, तो ये तुम्हारी पैंटी पर बना 'तड्डी बाहर' भी तो माले है, ये तुम्हारी चुत के कितना पास है और इसने तो ना जाने कितनी बार तुम्हे और तुम्हारी चुत को नंगा देखा होगा"

    मेरी बात सुन कर एक बार तो उस ने अपनी पैंटी की तरफ देखा, वो शर्मा गयी और शरमाते हुए बोली-"जीजू आप भी नाआ.ये तो पैंटी पर बना तड्डी बाहर है, कुछ कर थोड़े ही सकता है पर आपका तो ये भूखा शेयर मेरी चुत को.."

    मीनू अपनी बात पूरी कराती की उस से पहले ही मैं उसकी नंगी टाँगो को फैला चुका तहा और पैंटी के पास उसकी जाँघो के बीच वाले हिस्से पर चूमना शुरू कर दिया तहा. जैसे ही मैने चूमना शुरू किया और हाथ उसकी जाँघो पर सहलाने लगा, मीनू की आँखें बंद होने लगी, वो आहें भरने लगी और उसकी बात अधूरी ही रही गयी.

    चूमते हुए हौले से मैने अपना हाथ मीनू की पैंटी के ऊपर रखा और सहलाने लगा. सॉफ्ट पैंटी के अंदर एक तपती हुई चुत थी. पैंटी के ऊपर फेराते फेराते मैं अपना हाथ उसकी पिंक पैंटी की साइड कॉर्नर्स पर ले गया और लेफ्ट साइड से पैंटी थोड़ा सा ऊपर की, उसकी चुत के लेफ्ट किनारे दिखने लगे और मैने मेरी जीभ वाहा से अंदर घुसा दी और साइड से ही उसकी चुत च्चतने लगा. मीनू से रहा नही गया, वो अपना हाथ नीचे लाई और पैंटी के अंदर डाल कर चुत सहलाने लगी.

    इसी बीच मैने उसकी चुत को साइड से चाट-ते हुए मेरे हाथ उसकी पैंटी पीछे से अंदर डाल दिए ऑरा भी मेरे हाथ मीनू की नंगी गान्ड पर तहे. उफफफ्फ़ क्या फील तहा.चुत को पैंटी की साइड से जीभ डाल कर चातना और गान्ड पर हाथ फेरना.

    मैं उसकी नंगी गान्ड पर हाथ फेरने लगा. मेरे दोनो हाथ मीनू की गान्ड से खेल रहे तहे. गान्ड सहलाते सहलाते मैं अपने हाथ पैंटी की ऊप्पर स्ट्रॅप पर लाया और बहुत हौले से उसकी पैंटी नीचे सरका दी. मीनू का हाथ पहले ही उसकी चुत पर तहा. इस से पहले की वो कुच्छ समझ पती, उसकी पैंटी मैं उतार चुका था और बिना एक पल गवाए मैं उसकी पैंटी उसकी नंगी जाँघो से नीचे ले जाते हुए पूरी तरह उतार चुका तहा, और अब मेरी साली मीनू मेरे सांबे पूरी तरह नंगी तभी. उसके बूब्स भी अब मेरे तहे और उसकी नंगी चुत भी.

    जैसे ही मीनू को अहसास हुआ की अब उसके पास कुच्छ नही बच्चा और वो पूरी तरह नंगी हो चुकी है, उसने अपनी चुत को हाथो से ढकने की एक नाकाम कोशिश की पर तब तक मेरा मूह वाहा पहुच चुका तहा और अब मीनू की चुदाई की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी तभी. वो पल आने वाला तहा जिसके लिए उसने आज तक इंतेज़ार किया तहा.




    मैने एक बार मीनू की पूरी चुत को मूह में भर कर एक चुम्मा लिया और अपनी जीभ निकल कर उसकी चुत चातने लगा. मीनू की चुत पहले ही ताप रही तभी और ऐसे में मेरी जीभ धीरे धीरे उसकी चुत के हर हिस्से को चाट कर मीनू को और गरम कर रही तभी. चाट-ते हुए मैने मेरी जीभ मीनू की चुत के मैं होल पर लगा दी और बार बार अंदर बाहर करने लगा. एक दम कसी हुई उन-टच चुत तभी. पता चलते ही मुझे मज़ा आ गया की आज एक और सील टूटेगी.

    अभी तक मीनू सिसकारिया ले रही तभी और उस-की आँखें बार बार बंद हो रही तभी खुल रही तभी. उस के लिए ये एक दूसरी दुनिया का अनुभव था. उस-ए कुच्छ भी समझ नही आ रहा तहा. जैसे जैसे मैं उसकी चुत चाट रहा था, वो सेक्स में और पागल होती जा रही तभी, उसके पैर अपने आप अकड़ रहे तहे और मेरा सर उसकी जाँघो के बीच में दब चुका तहा. कई बार अपने आप ही उसके हाथ मेरे सर पर जा रहे तहे और फिर जब उस से सहन नही हुआ तो उस ने मेरे सर से पकड़ कर मुझे खुद पर खीच लिया.

    अब मेरे नंगा जिस्म मीनू के नागे जिस्म के ऊपर तहा. उस के बूब्स मेरे सीने से दब रहे तहे और मेरा ठाना हुआ लंड उसकी चुत पर टक्कर मर रहा तहा.

    मीनू तेज़ आहें भर रही तभी, आहें भाराती भाराती बोली-"आआआहह जीई--जुउुुुुुउउ, मैं.मैं मर जाउगी, अब---- मुझ--से नही सहन होता" "आअप जल्दी कुच्छ करो.नहीं तो मैं."

    इस से पहले की वो बात पूरी कराती, मैने मेरे लिप्स उसके लिप्स से लगा दिए और एक लंबा स्मूच लेकर बोला-"हां मेरी जान.." कहते हुए ठाना हुआ लंड उसकी चुत के पास लाया, और उसकी चुत पर टच किया, उफफफफफ्फ़ तपती हुई उसकी चुत और तापटा हुआ मेरा लंड.

    मीनू को जैसे ही मेरे लंड उसकी चुत पर महसूस हुआ, वो घबराते हुए बोली-"जीजू ये इतना लंबा, इतना मोटा आप मेरी चुत में डालोगे, नही जीजू नही, मैने अभी थोड़ी देर पहले मूह में लिया तहा, गरम लोहे की तरह ताप रहा तहा, और मेरी तो चुत इतनी छोटी है, नही जीजू नही. मैं इतना मोटा, इतना लंबा लंड मेरी छोटी सी चुत में नही ले सकती"

    मीनू को इस तरह घबराता देख मुझे सारा मज़ा बर्बाद होता दिखा, मैं अब एक ऐसी स्टेज पर तहा की अब अगर मीनू को ना चोद-ता तो मैं पागल हो जाता, और मीनू के साथ ज़बरदस्ती मैं करना नही चाहता तहा. कुच्छ सोच कर मैं उस-ए अपनी बाँहों में भर कर, उस के बालो पर हाथ फेराते हुए, उस-ए करेस करते हुए किस करते करते कहने लगा-"मीनू मेरी जान, चुत तो सभी की इसी साइज़ की होती है, निमिषा की भी पहले इसी साइज़ की थी, और ये लंड तो दिख मोटा रहा है, ये तो अपना रास्ता अपने आप बना लेता है"

    मीनू मेरी बात सुनते सुनते मुझे किस करते करते बोली-"जीजू मुझे कुछ हो गया तो????"

    मैं उसके होंठों पर उंगली फेराता हुआ बोला-"कुछ नही होगा, हम धीरे धीरे ट्राइ करेंगे, बसस्स."

    मीनू-" मेरी चुत फट गयी तो????"

    मैने बोला-"यू लव मे ना.." और उसके होंठों पर वापस अपने होंठ रख दिए

    मीनू किस करते हुए बोली-"मोरे तन एनिवन एल्स"

    मैं-"तो बस, जब निमिषा को कुच्छ नही हुआ तो तुम्हे कुच्छ कैसे होने दूँगा, यू डोंट वरी, मैं हूँ ना.लेट्स ट्राइ.."

    कहते हुए मैने पोज़िशन बनाई. मीनू दीवार के सहारे पीठ लगा कर बैठी तभी. मैने एक बार अपने हाथ उसकी जाँघो पर सहलाते हुए बड़े प्यार से उसकी टांगे खोली और चुत पर एक प्यारा सा किस कर दिया. फिर तने हुए लंड का मूह उसकी चुत पर रखा, मीनू भी लंड की तरफ ही देख कर डर रही तभी. मैं अपना चेहरा उसके चेहरे के पास ले गया और उस-ए लिप्स पर किस करते हुए लंड पर हल्का सा धक्का दिया जिस से की एक बार लंड अंदर तो घुस-ए पर ये क्या लंड तो बिल्कुल भी नही घुसा.

    मैने एक बार फिर उस-ई तरह से ट्राइ किया अबकी बार मेरा लंड मीनू की चुत के छेद में से थोड़ा सा अंदर गया. मैने फिर एक धक्का लगाया तो मीनू दर्द से चीख उठी-"नहीए जीजू..प्लज़्ज़्ज़्ज़ नही.इस-ए बाहर ले लो.."

    मैने एक बार फिर ट्राइ किया पर वापस वही कहानी, लंड वही का वही. मैं नीचे झुका, हाथ में थोड़ा थूक लेकर उसकी चुत पर लगाया, थोड़ी देर उसकी चुत को मसाज किया, और एक हाथ से लंड का मूह पकड़ कर उसकी चुत के मूह पर ले गया और फिर हल्का सा धक्का दिया, पर ये क्या सिर्फ़ लंड का फूला हुआ मूह उसकी चुत के छेद में थोड़ा सा अंदर गया, और बाकी लंड वही का वही. मुझे पहली बार ईशा की चुदाई याद आ गयी.

    मैने मीनू को उठने का इशारा किया और खुद दीवार के सहारे पीठ लगा कर बैठ गया. अपनी टांगे मैने घुतनो से मोड़ ली और मीनू को मेरे घुतने से स्लाइड करते हुए मेरी जाँघो पर बैठने का इशारा किया. मीनू समझ गयी, वो उठी, उफफफफफ्फ़ मेरी नंगी साली का नंगा जिस्म और हिलते हुए उसके बूबे, उसकी जवानी ग़ज़ब ढा रही तभी. मीनू अपनी टांगे फैला कर कुछ इस तरह मेरी जाँघो पर आ बैठी की, अब वो मेरी गोद में तभी और उसकी पीठ अब मेरी दोनो टाँगो का सहारा ले रही तभी.

    मैने उसके दोनो हाथ मेरे चेहरे पर रखवाए, मेरे लंड के मूह को मीनू की चुत के मूह पर रख कर हल्का सा अंदर किया, उसकी गान्ड के नीचे अपने दोनो हाथ कुछ इस तरह से रख दिए की अब उसकी सारे जिस्म का लोड मेरे दोनो हाथो पर तहा, मैने मीनू को किस करना चालू किया और स्मूच करते-करते मीनू की गांड के नीचे लोड ले रहे अपने दोनो हाथो को धीरे-धीरे नीचे लाने लगा, मेरे हाथो के साथ-साथ मीनू का जिस्म भी मेरी गोद में नीचे आने लगा. अब मेरे प्लान ने काम करना शुरू कर दिया तहाअ. मैं धीरे धीरे मीनू की गांड को नीचे लाता रहा, और साथ-साथ मेरे लंड और मीनू माई चुत में भी दूरे कम होती गयी, लंड का मूह पहले से ही चुत के मूह पर मैं हल्का सा फ़सा चुका तहा. लंड बहुत धीरे-धीरे ही सही, चुत में अंदर घुसने की कोशिश कर रहा तहा, की तभी..

    जीजा साली की मजेदार कहानी -7- Jija Sali Sex Stories

    जीजा साली की मजेदार कहानी - Jija Sali Sex Stories (Completed)

    2016 Best Telugu Sex Stories
     
Loading...